सैटेलाइट द्वारा प्राप्त इमेज ने खोल दिया गलवन में चीन की काली करतूत का पोल , पकड़ा गया झूठ

omtimes undefined नई दिल्‍ली (ऊँ टाइम्स) 15-16 जून की रात में गलवन घाटी में हुई हिंसक घटना के हकीकत का अब पर्दाफ़ाश होना चालू हो गया है! चीन का घड़ियाली चाल और उसका झूठ भी अब सामने आने लगा है। सैटेलाइट से प्राप्त तस्‍वीरों ने चीन के इस झूठ को सामने लाकर रख दिया है। सैटेलाइट से मिली इन तस्‍वीरों में 9 जून 2020 से 16 जून 2020 के बीच हुए खास बदलाव को आसानी से देखा जा सकता है। यह तस्‍वीर भी इस बात का सबूत हैं कि किस तरह से चीन के जवानों ने भारतीय सीमा में भारी मशीनरी के साथ प्रवेश किया और फिर भारतीय जवानों के मना करने पर उनसे प्लान बद्ध हाथापाई भी किया । इन तस्‍वीरों में दिखाई दे रही मशीनरी से इस बात का अनुमान लगाया जा रहा है कि शायद चीनी सैनिकों की मंशा इसकी मदद से नदी का मार्ग अवरुद्ध करना रही होगी।
सैटेलाइट से मिली तस्‍वीरों पर बात करने से पहले आपको ये भी बता दें कि गलवन समेत पूरे लद्दाख का इलाका बंजर है। यहां पर बेहद ऊंचे और भुरभुरे पहाड़ हैं। गलवन का यह इलाका इसलिए बेहद खास है, क्‍योंकि यहां से आगे अक्‍साई चिन शुरू हो जाता है, जो कि पहले भारत के पास था, लेकिन 1962 के बाद से चीन इस पर अवैध कब्‍जा जमाए हुए है। वर्ष 2014 में केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही भारत ने इस हिस्‍से को दोबारा अपनी सीमा में वापस लेने की मांग दोहराई है। आपको बता दें कि भारत की करीब 4056 किमी की सीमा चीन से सटे लगती है। ये सीमा ऊंचे पहाड़, बर्फ से ढके ग्‍लेशियर और पूर्व में घने जंगलों से होकर गुजरती है। 15-16 जून की रात को जिस गलवन वैली में दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई वो जगह समुद्र से करीब 14000 फीट की ऊंचाई पर है। जून के महीने में भी रात के समय यहां का तापमान काफी नीचे होता है। सर्दी में तो यहां पर तापमान -20 तक चला जाता है।

सैटेलाइट से मिली तस्‍वीरों ने पकड़ा चीन का झूठ – दोनों देशों के बीच सहमति के साथ पहले से ही सीमा निर्धारित है। इसी के तहत भारत ये कहता आया है कि चीनी सैनिकों ने अवैध रूप से भारतीय सीमा में प्रवेश किया और फिर सैनिकों पर कंटीले तारों वाले डंडों से हमला किया था। हालांकि, चीन बेहद शातिराना तरीके से भारत के इन दावों को झुठलाता रहा है। बीते दिनों चीन के विदेश मंत्रालय ने गलवन में सेनाओं की स्थिति और हालात की जानकारी देते हुए जो बयान दिया था उसमें गलवन को चीन का हिस्‍सा बताया था। इस दौरान यहां तक कहा गया कि भारतीय जवानों ने चीनी सेना में पहले घुसपैठ की और फिर हमला किया। अब इसी झूठ को सैटेलाइट से मिली तस्‍वीरें पकड़ रही हैं। जिन तस्‍वीरों का यहां पर जिक्र किया जा रहा है उन्‍हें प्‍लैनेट लैब ने लिया है!

चीन ने नदी का मार्ग बदलकर किया है निर्माण – सेटेलाईट से प्राप्त तस्‍वीरों के आधार पर विशेषज्ञों का मानना है कि इनमें गलवन घाटी में हुए बदलाव को साफतौर पर देखा जा सकता है। इसमें मशीनरी के लिए बनाया गया ट्रैक और नदी को पार करने के लिए किए गए इंतजाम भी दिखाई दे रहे हैं। इनमें सुखे और बंजर पहाड़ पर बदलाव को देखा जा सकता है।कैलिफॉर्निया स्थित मिडिलबरी इंस्टीट्यूट ऑफ द ईस्‍ट एशिया नॉनप्रोलिफरेशन प्रोग्राम के डायरेक्‍टर जेफरी लुइस का कहना है कि इसमें नदी को नुकसान पहुंचाकर बनाई गई सड़क को साफतौर पर देखा जा सकता है। इन तस्‍वीरों में लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल के दोनों ही तरफ वाहन खड़े दिखाई दे रहे हैं। इनमें अधिकतर वाहन चीन की तरफ से आते दिखाई दे रहे हैं। उनके मुताबिक, तस्‍वीरों के जरिए करीब 30-40 वाहन भारत की तरफ से, जबकि 100 वाहन चीन की तरफ से दिखाई दे रहे हैं। सैटेलाइट से मिली तस्‍वीरों में इन ऑब्‍जर्वेशन पोस्‍ट का मलवा भी देखा जा सकता है। वहीं, यदि इस इलाके की 9 जून को ली गई इमेज की बात करें तो वहां पर किसी भी तरह का कोई निर्माण नहीं था।

चीनी प्रवक्‍ता का झूठा वयान – चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता के मुताबिक, उस ग्राउंड पर क्‍या हुआ वे इससे अनजान थे, लेकिन इतना तय है कि हाल के कुछ दिनों में भारतीय सैनिक चीन की सीमा में कई बार कई जगहों से दाखिल हुए। इन सैनिकों को चीन की सेना के जवानों ने भगाने की कोशिश की थी। गौरतलब है कि 1967 के बाद से गलवन में हुई घटना सबसे भीषण थी। मई से ही भारतीय सीमा पर जवान चीन की तरफ से होने वाली घुसपैठ और दुस्‍साहस का सामना कर रहे हैं। उन्‍होंने भारतीय सीमा में दाखिल होने के बाद वहाँ पर अस्‍थाई निर्माण भी किया। इन्‍हीं निर्माण को हटाने की वजह से तीन दिन पहले गलवन की घटना हुई थी। चीन की तरफ से यहाँ पर ऑब्‍जर्वेशन टावर, टैंट बनाए गए।

1967 के बाद से नहीं चली थी कोई गोली – इस घटना की शुरुआत उस वक्‍त हुई थी, जब भारत की पेट्रोल टीम रिज के दूसरी तरफ ये देखने गई थी कि चीन ने कहाँ तक घुसने की हिम्‍मत दिखाई है। इसके बाद ये जवान वहाँ से वापस आ गए थे। इसके बाद भारत की नाराजगी और कड़ा रुख इख्तियार करने पर चीन ने वहाँ से अपने कुछ टैंट और कुछ ऑब्‍जर्वेशन पोस्‍ट हटा लिया था । भारतीय जवानों ने उनके कुछ टावर तोड़ दिए थे और टैंटों को भी नष्‍ट कर दिया था। तीन दिन पहले यहाँ पर जो घटना घटी, उस दौरान समझौते के मुताबिक, जवानों के पास हल्‍के हथियार थे। 1967 के बाद से इस पूरे क्षेत्र में कभी कोई गोली नहीं चली है। दोनों तरफ के जवान यहाँ पर आने से पहले अपने हथियारों को कंधे पर पीछे रखते हैं।

लेखक: OM TIMES News Paper India

(Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 🇮🇳 ऊँ टाइम्स , सम्पादक अविनाश द्विवेदी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s