चक्रवाती तूफान (निसर्ग) 3 जून को गुजरात के तट पर दे सकता है दस्तक, चपेटे में मुंबई

OM TIMES News paper India. https://omtimes.in undefined नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स) तीन जून को चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ गुजरात के तट दस्तक दे सकता है। इसके मद्देनजर महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा, दमन-दीव और दादरा नगर हवेली में अलर्ट जारी किया गया है। इससे होने वाली तबाही की आशंका को देखते हुए राज्य सरकारों ने निचले स्थानों पर रहने वाले लोगों को निकालने का आदेश दिया है।साथ ही आधा दर्जन से अधिक जिलों में नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स की 10 टीमें तैनात की गई हैं। निसर्ग के खतरे से निपटने के लिए कुल NDRF 23 टीमों को तैनात किया गया है। एनडीआरएफ की 5 टीमों को भठिंडा से गुजरात के लिए एयरलिफ्ट किया गया है।

चक्रवात मुंबई और पालघर के नजदीक पहुंच गया है। यह मुंबई में समुद्र के तट को हिट करने वाला है. मुंबई के लिए यह पहला गंभीर चक्रवात होगा। दरअसल, अरब सागर पर बना कम दबाव का क्षेत्र मुंबई की ओर बढ़ रहा रहा है, इसकी गति 11 किलोमीटर प्रति घंटा है। लेकिन इसके तूफान में बदलते ही हवा की गति 120 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। अभी यह मुंबई से 430 किमी दूर है। तूफान की हलचल के चलते मुंबई समेत महाराष्ट्र के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है।
भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया, निसर्ग आने से पहले अरब सागर में बना भारी दबाव मंगलवार दोपहर में तूफानी चक्रवात में तब्दील हो गया। गुजरात और महाराष्ट्र के कुछ तटीय इलाकों में चक्रवात निसर्ग को लेकर चेतावनी जारी कर दी गई है। मंगलवार रात तक भयंकर चक्रवाती तूफान में बदलने से यह बुधवार को उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटों से गुजरेगा।

पीएम मोदी ने हालात का लिया जायजा – इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हालात का जायजा लिया। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि भारत के पश्चिमी तट के कुछ हिस्सों में चक्रवात की स्थिति के मद्देनजर हालात का जायजा लिया। मैं सभी की कुशलता के लिए प्रार्थना करता हूं। लोगों से हर संभव सावधानी और सुरक्षा उपाय बरतने का आग्रह भी करता हूं।

महाराष्ट्र-गुजरात: गांव खाली करा रहे, मछुआरों को वापस लौटने की अपील

  • एनडीआरएफ और गुजरात पुलिस नवसारी जिले के मेंढर और भाट गांवों से लोगों को निकाल रही है।
  • गुजरात में तटीय रक्षक मछुआरों को अलर्ट कर बंदरगाह पर वापस लौटने की अपील कर रहे हैं।

– महाराष्ट्र के मुंबई शहर, ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है।

– मुंबई में सभी मछुआरे अपनी नावों को लेकर वापस किनारों पर लौट रहे हैं।

दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की टीमें की गई तैनात –

एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई हैं। 10 टीमें महाराष्ट्र में और 11 टीमें गुजरात में हैं। हालांकि, गुजरात ने पांच और टीमों की मांग की है। इसलिए हम उन्हें पंजाब से एयरलिफ्ट कर रहे हैं। वे जल्द ही गुजरात पहुंच जाएंगे। गुजरात में कुल 16 टीमें और महाराष्ट्र में 10 टीमें होंगी। महाराष्ट्र में 6 और गुजरात में दो टीमें स्टैंडबाय पर हैं।
आइएमडी के अनुसार, बुधवार को चक्रवात का ज्यादा असर दिखाई देगा। इस दौरान 100-125 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। कुछ इलाकों में भारी और अत्यधिक वषर्षा की चेतावनी दी गई है। हालांकि, यह ‘एम्फन’ से कम खतरनाक होगा।
लेकिन इस बार चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ से मुंबई में भारी तबाही होने की संभावना जताई गई है। जैसे ही ‘निसर्ग’ तूफान मुंबई के समुद्री तट से टकराएगा, वैसे ही मुंबई का इतिहास भी बदल जाएगा। अरब सागर में चक्रवाती तूफान के हालात बन रहे हैं। 

समुद्री तटों पर बाढ़ का बढ़ा खतरा – भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, 3 जून को चक्रवात तूफान निसर्ग मुंबई से उत्तर की ओर करीब 110 किमी की दूरी पर सक्रिय होगा। जिस वजह से मेट्रोपॉलिटन शहर मुंबई समेत महाराष्ट्र के तमाम समुद्री तटों पर बाढ़ का खतरा रहेगा। चक्रवाती तूफान में तब्दील होने पर हवा की गति 105 से 115 किमी प्रति घंटा हो सकती है। 

मुंबई और उसके आसपास के जिलों में अलर्ट हुआ जारी – चक्रवाती तूफान निसर्ग को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई और उसके आसपास के जिलों में अलर्ट जारी कर दिया है। साथ ही एनडीआरएफ की टीमों की तैनाती भी की है। जिन जिलों में तूफान को लेकर रेड अलर्ट जारी है, उसमें मुंबई शहर, मुंबई उपनगरीय जिले, ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग के नाम शामिल हैं।

निसर्ग तूफान के चलते भारी बारिश की है चेतावनी – भारतीय मौसम विभाग ने बुधवार को मुंबई समेत ठाणे, पालघर और रायगढ़ के तटीय इलाकों में निसर्ग तूफान के चलते भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके अलावा केंद्रीय जल आयोग ने आशंका जताई है कि सिंधदुर्ग, रत्नागिरी, पालघर, ठाणे, मुंबई और नासिक में भारी बाढ़ आ सकता है। साथ ही ये भी कहा गया है कि उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात के तटीय इलाकों में तेज और ऊंची लहरें उठ सकती हैं। 

मुंबई में क्यों रहा है कम खतरा ..?

अरब सागर में चक्रवाती तूफान के हालात बनने पर मुंबई को हमेशा कम खतरा इसलिए रहा है क्योंकि क्योंकि अरब सागर की हवाओं की गति अधिकतर पश्चिम की तरफ रही है। अक्सर ऐसा ही होता आया है कि हर साल अरब सागर में बनने वाले एक या दो चक्रवातों का रुख या तो ओमान और एडन खाड़ी की तरफ रहा है या फिर गुजरात की तरफ।

समुद्री तट के नजदीक ना जाने के निर्देश – तूफान की गंभीरता को देखते हुए मछुआरों को समुद्री तट के करीब ना जाने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही मछली आखेट करने के लिए निकलीं करीब 15 हजार नावों को वापस लाने के निर्देश भी दिए गए हैं। इसके साथ ही चक्रवात की रफ्तार और दिशा पर लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है।

गुजरात में भी जारी किया गया है अलर्ट गुजरात समेत महाराष्ट्र, गोवा, दमन-दीव और दादरा नगर हवेली में अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं राज्य सरकारों ने इससे बचने के लिए निचले स्थानों पर रहने वालों को निकालने के आदेश दिए है। निसर्ग तूफ़ान के खतरे से निपटने के लिए इन सभी राज्यों में नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स की कुल 23 टीमें लगाई गयी हैं। वहीं ऐसे आधा दर्जन से ज्यादा जिले हैं, जहां तूफ़ान का प्रभाव ज्यादा देखने को मिलेगा। ऐसे में इन जिलों में NDRF की 10 टीमें तैनात की गई हैं।

लेखक: OM TIMES News Paper India

(Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 🇮🇳 ऊँ टाइम्स

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s