दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का हुआ आदेश, कहीं कहीं लगा कर्फ्यू

OmTimes  e-news paper India
Publish Date- 26/2/2020. https://omtimes.in omtimes.in - 26-2-2020-2  नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स) दिल्ली में तीसरे दिन हालात बेकाबू होते देख पुलिस ने दंगाइयों को गोली मारने का आदेश दिया है। धारा-144 का कोई असर न देखते हुए पुलिस ने मंगलवार देर शाम को चार इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया। इसमें सबसे संवेदनशील मौजपुर, जाफराबाद, करावल नगर और बाबरपुर शामिल हैं। हालात का जायजा लेने के लिए राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने बीती रात को पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक के साथ सीलमपुर का दौरा किया !
दंगाइयों ने विगत दिवस भी जमकर उत्पात मचाया। इस उपद्रव में पाँच और की मौत हो गई है । सोमवार को भी पाँच की जान गई थी। कुल मिलाकर अब तक 13 लोग मारे गए हैं। मरने वालों में दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल रतन लाल भी भी शामिल हैं। वह सोमवार को दंगाइयों के हाथों मारे गए थे। घायलों की संख्या 186 पहुंच गई है। इसमें दो आइपीएस अधिकारी सहित 56 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

दंगाइयों ने दागी एक हजार से अधिक गोलियां-  दंगाइयों ने मंगलवार को कई दुकानों, वाहनों और घरों में आग लगाई। उपद्रवी खुलेआम हथियार लहराते हुए फायरिंग कर दहशत फैला रहे थे। हालात काबू करने को दोपहर बाद आरएएफ और सीआरपीएफ को मोर्चा संभालना पड़ा। इस बीच प्रभावित क्षेत्र यमुनापार के कई इलाके भीषण हिंसा की चपेट में रहे। पुलिस सूत्रों की मानें तो दो दिनों में दंगाइयों की तरफ से एक हजार से ज्यादा गोलियां चलाई गई हैं। पुलिस ने लगभग इतनी ही मात्रा में आंसू गैस के गोले दागे हैं।

हालात संभालने के लिए 67 कंपनियां हुई तैनात-  गृह मंत्रालय से मंजूरी मिलने के बाद दोपहर करीब तीन बजे के बाद सीआरपीएफ, आरएएफ और एसएसबी की 67 कंपनियां हालात को काबू करने के लिए तैनात कर दी गई हैं। इन कंपनियों ने पहले मौजपुर के पास जाफराबाद रोड से भीड़ हटानी शुरू की। लेकिन, इसी दौरान अन्य इलाकों में भी हिंसा का दायरा बढ़ने लगा। सुरक्षा बल के जवान जब तक एक तरफ हिंसा पर काबू पाते तब तक दूसरी तरफ उपद्रव बढ़ जाता।

सोमवार को रात भर हुई हिंसा-  सोमवार को दस थाना क्षेत्रों में धारा-144 लागू होने के बाद भी रातभर पूरे जिले में हिंसा होती रही। मंगलवार को जैसे-जैसे दिन चढ़ा बवाल भी बढ़ता गया। गोकलपुरी में टायर मार्केट को ही फूंक दिया गया। पूरे जिले में सौ से ज्यादा दुकानों में आगजनी के साथ तोड़फोड़ की गई। पुलिस ने अब तक हिंसा को लेकर कुल 11 मुकदमे दर्ज किए हैं। इसमें हिंसा करने, सार्वजनिक व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, पुलिस पर हमला, हत्या, हत्या के प्रयास जैसी धाराएं लगाई गई हैं। पुलिस 25 उपद्रवियों को भी हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

दर्जनों वाहन को किया आग के हवाले-  दंगाइयों ने अनगिनत वाहनों को भी फूंक दिया है। यमुना विहार में भजनपुरा पेट्रोल पंप के पास सौ से ज्यादा वाहन सड़क पर जले पड़े हैं। इनमें 50 कारें और इतनी ही मोटरसाइकिलें शामिल हैं। कई ई-रिक्शा भी जलाए गए हैं। एक मिनी बस में आग लगाने के अलावा कई ई-रिक्शा, बाइक व अन्य वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया।

पोस्टमार्टम के मुताबिक गोली लगने से रतन लाल की हुई मौत-  सोमवार को हिंसा के दौरान डीसीपी को बचाने के प्रयास में जान गंवाने वाले हेड कांस्टेबल रतन लाल की मौत गोली लगने से हुई थी। विगत दिवस पोस्टमार्टम में यह बात स्पष्ट हो गई है। सोमवार को रतन लाल की मौत पत्थर लगने और पिटाई से होने का दावा किया गया था।

ड्रोन से लिया जा रहा है दंगाईयों की तस्‍वीर-  अब हिंसा फैलाने वालों की पहचान के लिए ड्रोन के साथ ही सीसीटीवी फुटेज की मदद ली जा रही है। पुलिस की टीम लगातार इलाके में गश्त कर रही है। स्थिति काबू में है। हिंसा की शुरुआत में पुलिस के निष्क्रियता की बात गलत है, पुलिस पहले दिन से ही सक्रिय है। पर्याप्त संख्या में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था। चार जिलों में कर्फ्यू लगा है, यहां दंगाइयों को देखते ही गोली मारने के आदेश है !

लेखक: OM TIMES News Paper India

(Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 🇮🇳 ऊँ टाइम्स , सम्पादक अविनाश द्विवेदी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s