शरजील इमाम ने पूछताछ में किया चौकाने वाला खुलासा, PFI से सम्बन्ध लिंक

OM TIMES e-news paper India
Publish Date- 4/2/2020 https://omtimes.in  IMG_20200204_112840 नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स)  देशद्रोह के मामले में गिरफ्तार दिल्ली जेएनयू के छात्र शरजील से बरामद लैपटाप और मोबाइल फोन में क्राइम ब्रांच को कई आपत्तिजनक चीजें मिली हैं। उसके लैपटॉप से एक विवादित पोस्टर की तस्वीर बरामद हुई है। सीएए और एनआरसी के विरोध में उर्दू और अंग्रेजी में विवादित पोस्टर बनाया गया था। इसे छात्रों के सभी ग्रुपों में डाले जाने के अलावा मस्जिदों में भी बांटा गया था। इससे यह माना जा रहा है कि इसने लोगो को आंदोलित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
उधर, उसके मोबाइल फोन से वाट्सएप ग्रुप की मदद से जामिया और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिंटी के पंद्रह लोगों की पहचान की गई है। इनमें से कुछ छात्र भी हैं। पुलिस ने कुछ को नोटिस भेज दिया है जबकि अन्य को नोटिस भेजने की तैयारी की जा रही है। उन्हें पुलिस पूछताछ के लिए जल्द बुलाया जा सकता है।

पीएफआई के नौ लोगों से है नजदीकी संबध –  जांच अधिकारियों के मुताबिक शुरूआती जांच में शरजील के पीएफआई के नौ लोगों से नजदीकी संबध सामने आए हैं। शरजील लगातार उनके संपर्क में भी था। लिहाजा पुलिस उसके बैंक अकाउंट की जांच कर यह पता लगाने में जुटी है कि कहीं विदेशों से भी तो उसे फंडिंग नहीं की गई है।
पुलिस सूत्रों ने बताया है कि शरजील के लैपटाप से बरामद विवादित पोस्टर 14 दिसम्बर को बनाया गया था। उसी दिन उसे सोशल मीडिया पर भी डाल दिया गया था। उसमें लिखा था कि पहले कश्मीर, फिर बाबरी मस्जिद और अब सीएबी…इसे खत्म करने के लिए मुसलमानों को एकजुट होने के साथ ही पूरजोर तरीके से इसका विरोध भी करना होगा। हजारों मुसलमान नोजवान जोरदार विरोध के लिए तैयार हैं। दिल्ली को डिस्टर्ब करने से ही इंटरनेशनल मीडिया को सीएए के विरोध का अटेंशन मिलेगा..।

शरजील ने मुस्लिम युवाओं को भड़काया –  अपने पोस्ट के माध्यम से शरजील ने 15 दिसंबर को जमिया मिलिया के छात्रों द्वारा दोपहर तीन बजे विरोध प्रदर्शन के दौरान भारी संख्या में मुस्लिमों से शामिल होने का आह्वान भी किया गया था। पुलिस को शरजील के मोबाइल फोन से एक धर्म विशेष से जुड़े कई वाट्सएप ग्रुपों की जानकारी भी मिली है। पुलिस उनमें हुई चैटिंग को बारीकी से खंगाल रही है।
पुलिस के विश्वसनीय सूत्रों का कहना है कि शरजील इमाम ना सिर्फ बेहद शातिर है, बल्कि बोलने में भी उसे महारत हासिल है। उसकी मंशा उत्तरी भारत में मुस्लमों का बड़ा नेता बनने की थी। वह तरह-तरह के उदाहरण देकर अपने तर्कों से संपर्क में आए लोगों को प्रभावित कर देता था। यही नहीं वह अपनी बातों से पुलिस को भी बरगलाने करने की कोशिश कर रहा है। वह सीएए को संविधान के खिलाफ बताने के साथ ही इसके विरोध में प्रदर्शन को सही साबित करने में जुटा हुआ है।

शरजील का रिमांड तीन दिन और बढ़ा –  शरजील इमाम को तीन दिन की और रिमांड पर भेज दिया गया है। रिमांड खत्म होने के बाद शरजील की सोमवार को दिल्ली की एक अदालत में पेशी हुई। इसके बाद कोर्ट ने उसकी रिमांड तीन दिन और बढ़ा दी। हालांकि पुलिस ने कोर्ट से पांच दिन की रिमांड मांगी थी।

लेखक: OM TIMES News Paper India

(Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 🇮🇳 ऊँ टाइम्स , सम्पादक अविनाश द्विवेदी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s