सुलेमानी को श्रद्धांजलि देते वक्त रो रहे थे आयतुल्ला, सड़कों पर उतरा जन सैलाब, लगे अमेरिका बिरोधी नारे

OM TIMES e-news paper India
Publish Date – 7/1/2020 https://omtimes.in IMG_20200107_001502तेहरान / नई दिल्ली (ऊँ टाइम्स)  ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामेनेई ने अमेरिकी हमले में मारे गए अपने शीर्ष सैन्य कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी के जनाजे की नमाज पढ़ा । वहां एकत्र हजारों लोगों ने अपने जनरल के लिए मातम मनाया। खुद खामेनेई भी रो पड़े। सड़कों पर युवाओं और बुजुर्गो की भारी तादाद थी। महिलाएं हिजाब और अन्य काले परिधानों में थीं।

ईरान ने अमेरिका से बदला लेने का लिया संकल्प –  ईरान के सबसे लोकप्रिय व्यक्तियों में एक सुलेमानी शुक्रवार को बगदाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समीप ड्रोन हमले में मारे गए थे। वह 62 साल के थे। उनकी हत्या के बाद चिर प्रतिद्वंद्वी ईरान और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है। ईरान ने बदला लेने का संकल्प लिया है।
जनाजे में शामिल एक महिला ने कहा कि वह नायक थे। उन्होंने दाएस (इस्लामिक स्टेट) को हराया था। अमेरिका ने जो कुछ किया, वह वाकई अपराध है। मैं उनकी शहादत पर शोक मनाने आई हूं। इस घटना का जवाब दिया जाना चाहिए। लेकिन, हम जंग नहीं चाहते हैं। कोई भी जंग नहीं चाहता है।

सड़कों पर उतरा जन सैलाब-  प्राप्त समाचार के मुताबिक, सड़कों पर इतनी भीड़ थी कि लोग भूमिगत मेट्रो स्टेशनों से बाहर ही नहीं निकल पाए। मेट्रो प्रमुख फरनौश नोबख्त ने कहा कि मेट्रो स्टेशनों पर बड़ी संख्या में लोग हैं। लेकिन, सड़कों पर भी भारी भीड़ है। ऐसे में स्टेशनों को खाली कराना संभव नहीं है।
तेहरान विश्वविद्यालय की ओर जा रहे जुलूस के मुख्य मार्ग इंकिलाब स्ट्रीट पर कई लोगों ने शोक व्यक्त किया। एक गली के लोग तब तक शांत थे। एक बच्चा यह देखने के लिए पेड़ पर चढ़ा कि क्या आगे की सड़क खुली है? फिर उसने नारा लगाया-अमेरिका मुर्दाबाद। हजारों की भीड़ ने भी उसके साथ अमेरिका मुर्दाबाद का नारा लगाना शुरू कर दिया। लोगों ने काफिर मुर्दाबाद, राजद्रोही मुर्दाबाद और अल-सऊद मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। अल-सऊद से लोगों का आशय सऊदी अरब के राज परिवार से था।

यहाँ पर लोगों का सबसे ज्यादा गुस्सा ईरान के कट्टर विरोधी अमेरिका और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लेकर था। एक व्यक्ति ने, जिसने अपना नाम मेहदी गोरबानी बताया, कहा कि वह अपनी पत्नी और बच्चे के साथ 40 किलोमीटर दूर कारज शहर से आया है। उसने कहा कि अमेरिका को हमारा संदेश है कि उसने जो खून बहाया है, उसकी कीमत उसे चुकानी होगी।
अमेरिका को समझना चाहिए कि शुरू उसने किया है, लेकिन हम इसे खत्म करेंगे। किशोरों के एक समूह ने बैनर थाम रखा था, जिसमें एक बैनर पर लिखा था, कासिम के जूते की कीमत ट्रंप के सिर की कीमत से ज्यादा है। कुछ अन्य लोगों ने क्षेत्र से अमेरिकी सैनिकों को निकालने की मांग की। एक व्यक्ति ने कहा कि हम अमेरिका को मुंहतोड़ जवाब देंगे।

लेखक: OM TIMES News Paper India

(Regd. & App. by- Govt. of India ) प्रधान सम्पादक रामदेव द्विवेदी 📲 9453706435 🇮🇳 ऊँ टाइम्स , सम्पादक अविनाश द्विवेदी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s